विहारी, अश्विन की ऐतिहासिक कारणों से सिडनी टेस्ट हुआ ड्रॉ

चिरौरी न्यूज़

सिडनी: हनुमा विहारी और रविचंद्रन अश्विन के द्वारा खेला गया ऐतिहासिक पारियों की वजह से सिडनी में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेला गया तीसरा टेस्ट मैच ड्रा हो गया। दोनों बल्लेबाजों ने पांचवें दिन दीवार तरह क्रीज पर खड़े होकर भारत को यह मैच हारने से बचाया। सिडनी टेस्ट हालांकि ड्रा हो गया है लेकिन भारतीय टीम को ब्रिसबेन में इस से मनोवैज्ञानिक लाभ मिलेगा। भारतीय टीम खासकर हनुमा विहारी , ऋषभ पंत, चेतेश्वर पुजारा और रविचंद्रन अश्विन ने जिस तरह का जुझारूपन दिखाया है उस से लगता है कि टीम इंडिया ब्रिसबेन में मैच जीतने के इरादे से उतरेगी।

हनुमा विहारी और रविचंद्रन अश्विन ने छठे विकेट के लिए 259 गेंदों में 62 रनों की नाबाद साझेदारी की। इसके साथ ही इन दोनों के नाम भारत के लिए छठे विकेट के लिए सबसे ज्यादा गेंदे खेलने का रिकॉर्ड हो गया। वहीं टेस्ट क्रिकेट की चौथी पारी में 1992 के बाद यह पहला मौका है जब भारत के चार बल्लेबाजों ने 100 या उससे ज्यादा गेंदों का सामना किया है।

हैमस्ट्रिंग इंजरी से जूझ रहे हनुमा विहारी ने 161 गेंदों में नाबाद 23 रनों की पारी खेली। वहीं, अश्विन ने 128 गेंदों पर नाबाद 38 रन बनाये। दोनों ने लगभग 42 ओवरों का सामना किया और छठे विकेट के लिए 62 रन जोड़े। इससे पहले पुजारा ने 205 गेंदों पर 77 रन बनाये थे। ऋषभ पंत ने भी आक्रामक अंदाज में 118 गेंदों पर 12 चौकों और तीन छक्कों की मदद से 97 रन बनाये। इन दोनों ने चौथे विकेट के लिए 148 रनों की पारी खेली।

पन्त की बल्लेबाजी से ऐसा लगा कि टीम इण्डिया सिडनी में इतिहास लिखने जा रही है और 407 रनों का लक्ष्य को पार कर लेगी। पंत और चेतेश्वर पुजारा ने सिडनी टेस्ट के आखिरी दिन 43।3 ओवरों में 148 रनों की साझेदारी की। इसके साथ ही इन दोनों के नाम चौथी पारी में सबसे बड़ी साझेदारी करने का रिकॉर्ड हो गया। साथ ही यह ऑस्ट्रेलिया में भारत की चौथी पारी में दूसरी सबसे बड़ी साझेदारी है। इससे पहले 1949 में विजय हजारे और रूसी मोदी ने चौथी पारी में आखिरी दिन 139 रनों की साझेदारी की थी। पन्त के आउट होने और रविन्द्र जडेजा के चोटिल होने की वजह से हनुमा विहारी और अश्विन ने बिना कोई जोखिम उठाये मैच को ड्रा करने में सफल रहे। इन दोनों ने ऑस्ट्रेलिया के जीत के मनसूबों पर पानी फेर दिया।

इसके साथ ही टीम इंडिया ने सिडनी में आज एक नया रिकॉर्ड बनाया। भारत ने चौथी पारी में 131 ओवर खेला, जो 41 साल के बाद हुआ है। इससे पहले भारत ने पाकिस्तान के खिलाफ 1979 में 131 ओवर खेला था। अब 41 साल के बाद यह कारनामा हुआ है।

आईसीसी ने ट्वीट कर सिडनी टेस्ट मैच के पांचवें और आखिरी दिन हनुमा विहारी के जज्बे को सलाम किया है। चार मैचों की ये सीरीज अब बेहद रोमांचक मोड़ पर पहुंच गई है। अब 15 जनवरी से ब्रिस्बेन में खेले जाने वाले चौथे टेस्ट को जो टीम जीतेगी, सीरीज उसके नाम हो जाएगी।

भारत की ओर से चौथी पारी में खेले गये ओवर

1979 : भारत बनाम इंग्लैंड – 150.5 ओवर

1948‍-49 : भारत बनाम वेस्ट इंडीज – 136 ओवर

1958-59 : भारत बनाम वेस्ट इंडीज – 132 ओवर

1979-90 : भारत बनाम पाकिस्तान – 131 ओवर

2020-21 : भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया – 131 ओवर

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सिडनी में भारत का प्रदर्शन

  1. 1. 12-18 दिसंबर 1947 – मैच ड्रॉ
  2. 2. 26-31 जनवरी 1968 – ऑस्ट्रेलिया की 144 रनों से जीत
  3. 3. 7-12 जनवरी 1978 – भारत की पारी और 2 रन से जीत
  4. 4. 2-4 जनवरी 1981 – ऑस्ट्रेलिया की पारी और 4 रन से जीत
  5. 5. 2-6 जनवरी 1986 – मैच ड्रॉ
  6. 6. 2-6 जनवरी 1992 – मैच ड्रॉ
  7. 7. 2-4 जनवरी 2000 – ऑस्ट्रेलिया की पारी और 141 रनों से जीत
  8. 8. 2-6 जनवरी 2004 – मैच ड्रॉ
  9. 9. 2-6 जनवरी 2008 – ऑस्ट्रेलिया की 122 रनों से जीत
  10. 3-6 जनवरी 2012 – ऑस्ट्रेलिया की पारी और 68 रनों से जीत
  11. 11. 6-10 जनवरी 2015 – मैच ड्रॉ
  12. 12. 3-7 जनवरी 2019 – मैच ड्रॉ
  13. 13. 7-11 जनवरी 2021 – मैच ड्रॉ

Leave a Reply

Your email address will not be published.