बॉलीवुड: लाइट, कैमरा, एक्शन पर रहेगा दो साल का ग्रहण

न्यूज़ डेस्क

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के कारण सारी दुनिया में मंदी का दौर आने लगा है,ऐसे में भारतीय फिल्म उद्योग इस से अछूता कैसे रह सकता है। लॉक डाउन के कारण फिल्मों की शूटिंग नहीं हो रही, सिनेमा घरों में ताले लगे हुए हैं, और कोई फिल्ममेकर अपनी फिल्म को रिलीज़ करने का जोखिम नहीं उठा रहे हैं। फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े लोगों को काफी नुकसान हो रहा है और सरकार को भी टैक्स आदि की इनकम नहीं हो रही है।इस लॉकडाउन से फिल्म जगत को अरबों का नुकसान हो रहा है और माना जा रहा है कि अभी हालात सामान्य होने में करीब दो साल लग जाएंगे।

फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े लोगों का कहना है कि अभी बड़ा से बड़ा प्रोडूसर भी अभी रिस्क नहीं ले सकता है। कई फिल्म मेकर्स ने तो एक साल के लिए अपना काम रोक दिया है। वहीं, कुछ का कहना है कि लॉकडाउन खुलने के बाद भी लोग भीड़भाड़ वाले इलाकों में जाने से बचेंगे, जिसमें सिनेमाघर भी शामिल है। माना जा रहा है कि अभी सबकुछ सामान्य हो जाने में दो साल लग जाएंगे। कई रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि इस कोरोना वायरस से फिल्म इंडस्ट्री को 130 मिलियन डॉलर का नुकसान होने की आशंका है। अगर भारतीय मुद्रा में बात करें तो फिल्म इंडस्ट्री को इस महामारी से मई तक 985 करोड़ का नुकसान हो सकता है।

फिल्म इंडस्ट्री का काम अभी पूरी तरह ठप पड़ा है, ऐसे में सबसे ज्यादा जूनियर वर्कर्स और डेली वैजेज वर्कर्स को हो रहा है। इस महामारी में फिल्मी जगत की हस्तियों को तो खास फर्क नहीं पड़ेगा, लेकिन जूनियर वर्कर्स को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि, फिल्म जगत की कई हस्तियां इन लोगों के मदद के लिए आगे आई हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.