कैच एंड किल एयर फ़िल्टर हवा में ही मार देगा कोरोना वायरस, वैज्ञानिकों का दावा

चिरौरी न्यूज़

नई दिल्ली: कोरोना की कहर को देखते हुए वैज्ञानिकों ने एक ऐसा एयर फ़िल्टर बनाने का दावा किया है जो कोरोना को हवा में ही पकड़ कर मार देगा। इस एयर फ़िल्टर का नाम कैच एंड किल दिया गया है। जर्नल ‘मैटरियल्स टूडे फिजिक्स’ में प्रकाशित शोध में यह दावा किया गया है कि एयर फिल्टर एक बार में 99.8 % कोविड -19 वायरस को ख़त्म कर दिया। बता दें कि अभी दो दिन पहले कुछ वैज्ञानिकों ने दावा किया था कि कोरोना वायरस हवा से फ़ैल सकता है, हालांकि WHO ने साफ कर दिया है कि ऐसी कोई भी रिपोर्ट अभी तक नहीं आयी है।

अब हवा में कोरोना के फैलने का लेकर जारी चर्चा के बीच कुछ वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि उन्‍होंने एक ऐसा एयर फिल्‍टर विकसित कर लिया है, जिससे कोरोना वायरस को हवा में ही पकड़कर उसे मारा जा सकता है।

वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि उनके अविष्कार से वैसे बंद स्थानों जैसे, स्कूल-कॉलेज, अस्पताल या फिर विमान यात्रा में कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोका जा सकता है। बताया जा रहा है कि वैज्ञानिकों ने एयर फिल्‍टर को निकेल फोम को 200 डिग्री सेल्सियस तक गर्म कर बनाया है। जिससे घातक जीवाणु बैसिलस एन्थ्रेसिस को 99.9 % नष्ट कर दिया। मालूम हो बैसिलस एन्थ्रेसिस से ही एन्थ्रेक्स जैसी बीमारी होती है।

अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ ह्यूस्टन के वैज्ञानिक झिफेंग रेन ने बताया कि एयर फिल्‍टर से बंद वाले जगहों पर कोरोना के फैलाव को रोका जा सकता है। उन्‍होंने बताया, इससे कोरोना के खिलाफ जंग में बड़ी मदद मिल सकती है। कोरोना को लेकर विशेषज्ञों की राय है कि हवा के जरिये कोरोना वायरस फैलता तो है, लेकिन जब कोई संक्रमित व्‍यक्‍ति खांसता है या फिर छींकता है, बोलता है तभी यह फैलता है। विशेषज्ञों के अनुसार मुंह से निकलने वाले छोटे बूंद हवा में एक मीटर से लेकर छह मीटर तक फैल सकते हैं।

इससे पहले 32 देशों के 239 वैज्ञानिकों ने विश्व स्वास्थ्य संगठन से कहा था कि हवा में मौजूद वायरस के एक छोटा कण भी लोगों को संक्रमित कर सकता है। हालांकि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने उनके दावे को पूरी तरह से खारिज कर दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.