संभल कर करें मोबाइल का इस्तेमाल नहीं तो हो सकता है अकाउंट खाली, सीबीआई ने दी चेतावनी  

न्यूज़ डेस्क

नई दिल्ली: भारत की टॉप एजेंसी सेंट्रल ब्यूरो ऑफ़ इन्वेस्टीगेशन यानि सीबीआई ने भारत में स्मार्टफोन के इस्तेमाल को लेकर एक एडवाइजरी जारी किया है, जिसमें कहा गया है कि एक ऐसा मैलवेयर (वायरस) आया है जो आपके फ़ोन का डाटा चुरा सकता है, और आपके बैंक अकाउंट से सारे पैसे निकाल सकता है. सीबीआई ने इस अलर्ट में राज्यों की पुलिस और कानूनी संस्थाओं को एक मैलवेयर (वायरस) पर नजर रखने के लिए कहा है। यह खतरनाक मैलवेयर खुद को कोरोना वायरस अपडेट से जुड़ा बताता है, इसीलिए सीबीआई ने सभी राज्यों की पुलिस और साइबर सेल को अलर्ट जारी किया है. आज कल मोबाइल यूजर्स कोरोना के अपडेट के लिए ज्यादा देर तक इन्टरनेट का इस्तेमाल करते हैं और इसी का फायदा हैकर्स उठा रहे हैं.

मंगलवार को जारी एक बयान में सीबीआई ने कहा कि उसे इंटरपोल से कुछ इनपुट्स मिले हैं, जिनके आधार पर बैंकिग ट्रोजन ‘Cerberus’ को लेकर अलर्ट जारी करना पड़ा है। सीबीआई ने इस वायरस के काम करने के तरीके को समझाते हुए कहा कि सर्बरस(Cerberus) कोरोना वायरस महामारी का गलत फायदा उठाते हुए यूजर्स को फर्जी मेसेज भेजता है, और जैसे ही कोई उस लिंक पर जाता है, खतरनाक मैलवेयर फोन में इंस्टॉल हो जाता है.
सीबीआई ने बताया कि एक बार अगर यह फोन में इंस्टॉल हो गया तो यह काफी ज्यादा डेटा की चोरी कर सकता है। ऐसे में यूजर्स के पर्सनल डेटा के साथ ही दूसरे सेंसिटिव डेटा के लिए बड़ा खतरा पैदा हो गया है। वहीँ कुछ साइबर एक्सपर्ट्स का कहना है कि हैकर्स इस डेटा को चुराकर सारी जानकारी किसी रिमोट सर्वर पर भेज देते हैं।
सीबीआई ने यूजर्स को आगाह करते हुए कहा है कि ये वायरस बैंकिंग डीटेल्स की सेफ्टी के लिए भी बड़ा खतरा बन गया है। सीबीआई ने चेतावनी देते हुए कहा, ‘यह ट्रोजन यूजर के फाइनैंशल डेटा जैसे क्रेडिट/डेबिट कार्ड नंबर और दूसरे डीटेल्स को चुराने पर फोकस करता है। इसके अलावा यह बड़ी चालाकी से यूजर्स को अपने जाल में फंसा कर पर्सनल इन्फर्मेशन और टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन डीटेल्स को ऐक्सेस कर लेता है।’

Leave a Reply

Your email address will not be published.