दिनों दिन बढ़ रहे मदद के हाथ, प्रतिदिन परोसे जा रहे हैं 400 लोगों का भोजन

नई दिल्ली। वैश्विक महामारी कोरोना से बचाव के लिए पिछले 24 मार्च से जारी लॉकडाउन में अगर किसी को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है,तो वो हैं दिहारी मजदूर और कम आय वाले परिवारों को,जिन्हें अब भूखों मरने की नौबत आ गई है। आपदा की इस घड़ी में दिल्ली समेत देश के अन्य शहरों में लोगों की परेशानियों को कम करने के उद्देश्य से जहां सरकार की ओर से जरूरतमंदों को राशन से लेकर भोजन सामग्री उपलब्ध कराया जा रहा है वहीं कुछ सामाजिक संगठन भी इस मुहिम में बढ़-चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं। इसी कड़ी में दिल्ली के उत्तम नगर स्थित विपिन गार्डेन एक्सटेंशन में मिथि सांस्कृतिक संस्थान यानी मिसांस की ओर से दिहारी मजदूर ,जरूरतमंदों और असहायों को अपने स्तर से पिछले 20 दिनों से प्रतिदिन भोजन बनाकर उनके बीच वितरण किया जा रहा है।ताकि आसपास रह रहे कोई भी दिहारी मजदूर,बेबह और नि:सहाय इंसान भूखा न रहे।

वहीं इस वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) से निपटने के लिए केन्द्र सरकार की ओर से पूरे देश में स्थिति ठीक नहीं होने तक लॉकडाउन की घोषणा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा की गई। लॉकडाउन की घोषणा के बाद से ही देश भर में सभी लोग अपने-अपने घरों में बंद है। जिसके बाद कामकाज ठप होने से दिहारी मजदूर ,रेहड़ी पटरी लगाने वाले व्यक्तियों की आमदनी बंद हो गई, ऐसे में बड़े शहरों में रहने वाले गरीब और कम आय वाले लोगों के सामने दो वक्त की रोटी जुटाना मुश्किल हो गया है। ऐसे में उत्तम नगर के द्वारका मोड़ स्थित विपिन गार्डेन एक्सटेंशन की एक सामाजिक संस्थान मिथि सांसकृतिक संस्थान नेकी और मानवता की मिसाल पेश कर रहा है। संस्थान के सभी सदस्य औऱ बिहार के मधुबनी जिला के बेनीपट्टी प्रखंड के भाजपा युवा मोर्चा अध्यक्ष श्रद्धानंद झा ‘मुकुल’ इन जरूरतमंदों के लिए किसी मसीहा की तरह आगे आए,और आर्थिक व श्रमदान को बहौलत इन जरूरतमंदों को पिछले 20 दिनों से अनवरत खाना खिलाने में जुट हुए हैं। सबसे पहले संस्थान के सभी सदस्यों ने आपस में चंदा कर इस नेक काम की शुरुआत की, फिर धीरे-धीरे इस नेक काम में बाहरी लोगों ने भी अपनी रुचि दिखानी शुरु कर दी। बाहरी दानकर्ताओं और संस्थान के सदस्यों की आर्थिक मदद से अब प्रतिदिन तकरीबन तीन सौ से चार सौ लोगों के लिए भोजन बनाई जा रही है,और फिर उसका वितरण जरूरतमंदों में किया जाता है। सामाजिक कार्यकर्ता श्रद्धानंद झा ‘मुकुल’ ,गंगा नारायण झा, अवधेश कुमार,ब्रजेन्द्र नाथ झा, सुधीर ठाकुर,ललित चौधरी,संतोष कुमार,रौशन कुमार के साथ-साथ संस्थान के सभी सदस्य अपने श्रमदान के बदौलत इस महायज्ञ को अंजाम देने में लगे हुए हैं। संस्थान का एक मात्र उद्देश्य है कि इस विषम परिस्थिति में कोई भी गरीब मजदूर भूखा ना रहे।

मानवता की मिसाल पेश कर रहा मिथि सांस्कृतिक संस्थान

संस्था के सेटलर अवधेश झा का कहना है कि इस विषम परिस्थिति में कोई भी गरीब भूखा ना रहे, और इसी को ध्यान में रखते हुए संस्थान की ओर से प्रतिदिन सुबह और शाम गरीबों के लिए भोजन मुहैया कराया जा रहा है। वहीं, गरीबों को भोजन देने के इस पुण्य कार्य में साफ-सफाई के साथ साथ सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा पूरा ध्यान भी रखा जा रहा है।

वहीं,संस्थान के सदस्य और भाजपा युवा मोर्चा के अध्यक्ष श्रद्धानंद झा ‘मुकुल’ का कहना है कि प्रधानमंत्री मोदी की अपील पर मिथि सांस्कृतिक संस्थान ने ठाना है कि लॉकडाउन तक इसी तरह गरीबों को भोजन मुहैया कराते रहेगा।
वैश्विक आपदा के इस घड़ी में जहां केन्द्र से लेकर प्रदेश की सरकार अपने स्तर पर जनता की सहायता में लगी हुई है, वहीं, मिथि सांस्कृतिक संस्थान की ओऱ से गरीबों ,बेबस और लाचार इंसानों को भोजन मुहैया करा रही है, जो विपदा के इस घड़ी में नेक मिशाल पेश कर रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.