आईआईएम अहमदाबाद ने परिवहन और लॉजिस्टिक्स रीसर्च के लिए लॉन्च किया बहु-आयामी केन्द्र

चिरौरी न्यूज़

अहमदाबाद: भारत, एशिया पेसिफिक क्षेत्र में अग्रणी बी-स्कूल इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेन्ट अहमदाबाद (आईआईएमए) ने हाल ही में आईआईएमए में सह-अध्यक्ष डॉ देबजीत रॉय और फैकल्टी डॉ संदीप चक्रवर्ती की मौजूदगी में एक सेंटर फॉर ट्रांसपोर्टेशन एण्ड लॉजिस्टिक्स का लॉन्च किया है। परिवहन, लॉजिस्टिक्स एवं अन्य संबंधित क्षेत्रों में अत्याधुनिक अनुसंधान को बढ़ावा देने के लिए यह पहल की गई है, इसके माध्यम से देश-विदेश में छात्रवृत्ति, अभ्यास एवं नीतिनिर्माण को भी बढ़ावा दिया जाएगा। इसके अलावा यह परिवहन एवं लॉजिस्टिक्स के क्षेत्र में आईआईएमए की मौजूदगी को सशक्त बनाने में भी योगदान देगा।

प्रिवहन और लॉजिस्टिक्स के क्षेत्र में आईआईएमए की समृद्ध धरोहर है और संस्थान ने इस क्षेत्र में अकादमिक अनुसंधान एवं अभ्यास में उल्लेखनीय योगदान दिया है। आईआईएमए के फैकल्टी सदस्यों ने भी नेटवर्क डिज़ाइन, मोड चॉइस, वेयरहाउसिंग, इन्फ्रास्ट्रक्चर और परिवहन नीति पर असंख्य जर्नल लेख तथा केस लिखे हैं। संस्थान अपने सेंटर फॉर ट्रांसपोर्टेशन एण्ड पॉलिसी के माध्यम से बहु-आयामी अनुसंधान एवं पोस्ट-ग्रुजुएट प्रोग्राम पेश करेगा तथा लोगों एवं माल के स्थानान्तरण के लिए शिक्षा, तकनीक के स्थानान्तरण और नीतिगत सलाह में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

इस पहल के बारे में बात करते हुए डॉ देबजीत रॉय, फैकल्टी तथा आईआईएमए में सीटीएल के एक सह-संस्थापक ने कहा‘‘ इस सेंटर की शुरूआत करते हुए हमें बेहद खुशी का अनुभव हो रहा है जो परिवहन और लॉजिस्टिक्स क्षेत्र की चुनौतियों एवं बाधाओं  को हल करेगा, जो देश के आर्थिक विकास के लिए सबसे महत्वपूर्ण क्षेत्रों में से एक है। सीटीएल की स्थापना के साथ हम मल्टी-मॉडल परिवहन प्रणाली तथा आपूर्ति श्रृंखला लॉजिस्टिक्स की दक्षता में सुधार लाना लाकर स्थायी आर्थिक विकास को बढ़ावा देना चाहते हैं। हमारे फैकल्टी, केन्द्र के साथ सदस्य के रूप में जुड़े हैं। उत्तरी अमेरिका, युरोप एवं एशिया केविश्वविद्यालयों से अन्तर्राष्ट्रीय स्तरपर मान्यता प्राप्त प्रोफेसर, जिनके पास अनुसंधान में महत्वपूर्ण अनुभव है, वे सेंटर के विकास एवं अकादमिक गतिविधियों के लिए मार्गदर्शन प्रदान करेंगे।’‘

हाल ही में सेंटर फॉर ट्रांसपोर्टेशन एण्ड लॉजिस्टिक्स का वर्चुअल उद्घाटन किय गया तथा सरकार, अकादमिक, उद्योग जगत के दिग्गजों के साथ “Trends and Innovations in Transportation and Logistics”  पर पैनल चर्चा का आयोजन भी हुआ। आईआईएम के निदेशक डॉ एरोल डीसूज़ा ने समारोह का उद्घाटन किया तथा प्रतिभागियों को संबोधित किया। उन्होंने भारत संरचनात्मक बदलाव, आर्थिक एवं सामाजिक विकास के लिए परिवहन एवं लॉजिस्टक्स क्षेत्र के महत्व पर रोशनी डाली। डॉ डीसूज़ा ने बताया कि आईआईएमए न केवल प्रबन्धन विज्ञान में बल्कि सामाजिक आर्थिक विकास के क्षेत्र में भी आधुनिक अनुसंधान में अग्रणी रहा है। उन्होंने कहा कि केन्द्र का उद्देश्य सिर्फ परिवहन एवं लॉजिस्टिक्स की लागत को कम करना ही नहीं होना चाहिए बल्कि पर्यावरणी स्थायित्व के मुद्दों के समाधान और सामाजिक समावेशन को बढ़ावा देना भी होना चाहिए।

उद्घाटन समारोह के अवसर पर डॉ संदीप चक्रवर्ती, फैकल्टी एवं सह-संस्थापक, सीटीएल, आईआईएमए ने कहा, ‘‘उद्घाटन समारोह के अवसर पर आयोजित पैन चर्चा में भारत के परिवहन और लॉजिस्टिक्स क्षेत्र से जुड़े महत्वपूर्ण पहलुओं पर रोशनी डाली गई। पैनल पर मौजूद दिग्गजों ने इस विषय पर सुझाव दिए कि कैसे हमारा केन्द्र भारत की समस्याओं को हल कर सकता है और देश के परिवहन और लॉजिस्टिक्स क्षेत्र को सहयोग प्रदान कर सकता है। विशेषज्ञों ने स्वैप की जा सकने वाली बैटरी, चार्जिंग के लिए बुनियादी ढांचें और सड़कों पर बिजली की आवश्यकता पर ज़ोर दिया। उन्होंने कोल्ड चेन में अनुसंधान तथा फ्रोज़न फूड के परिवहन के लिए विभिन्न तापमान के वाहनों की ज़रूरत की बात कही। कमर्शियल वाहनों की खरीद को किफ़ायती बनाने की बात  कही। इन दिग्गजों ने रचनात्मक नियोजन नीति, तथा शहरों में स्थायी परिवहन के लिए सहयोगपूर्ण दृष्टिकोण की आवश्यकता पर ज़ोर दिया। इस दृष्टिकोण से पैदल चलने, साइकल चलाने, ई-वाहनों, शेयर्ड परिवहन और सार्वजनिक परिवहन के महत्व पर रोशनी डाली गई। उन्होंने कहा कि निजी परिवहन के बजाए शेयर्ड परिवहन को बढ़ावा देना तथा परिवहन क्षेत्र में ई-वाहनों को प्रोत्साहित करना सतत विकास लक्ष्यों की दिशा में महत्वपूर्ण कदम हो सकता है।

आईआईएमएस सेंटर फॉर ट्रांसपोर्टेशन एण्ड लॉजिस्टिक्स साल भर वेबिनार, कार्यशालाओं एवं पैनल चर्चाओं के आयोजन की योजना बना रहा है। यह केन्द्र पोस्ट-डॉक्टोरल रीसर्च एवं विजिटिंग स्कॉलर के अवसर भी उपलब्ध कराएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.