जान से मारने की धमकियों से परेशान हैं तसलीमा नसरीन

Taslima Nasreen is upset with the death threatsचिरौरी न्यूज़

नई दिल्ली: तसलीमा नसरीन ने कहा है कि पाकिस्तान में एक धार्मिक नेता के उन्हें मारने का आह्वान करने के बाद वह काफी परेशान हैं। नसरीन को इस्लाम विरोधी टिप्पणियों के लिए पहले भी जान से मारने की धमकियां मिल चुकी हैं।

नसरीन ने एक बयान में कहा है कि वह एक धार्मिक नेता द्वारा कल पाकिस्तान में हजारों लोगों की एक रैली को संबोधित करने के बाद उनकी हत्या के आह्वान के बाद बेहद परेशान हैं।

नसरीन महिलाओं के उत्पीड़न और धर्म की आलोचना पर उनके लेखन के लिए जानी जाती हैं। उनके कई कार्यों को उनके मूल देश बांग्लादेश में प्रतिबंधित कर दिया गया है। वह 1994 से निर्वासन में रह रही हैं। यूरोप और अमेरिका में 10 से अधिक वर्षों तक रहने के बाद, वह 2004 में भारत आ गईं।

तसलीमा नसरीन ने आईएएनएस से बातचीत में कहा, “जबकि मेरे खिलाफ अतीत में कई फतवे जारी किए गए हैं, यह पहली बार है कि किसी ने इतनी बड़ी सभा के सामने मेरे नाम की घोषणा की है और मांग की है कि मुझे मार डाला जाए। इससे कौन परेशान नहीं होगा? मेरी तरफ देखो ट्विटर हैंडल पर इतने कमेंट्स आ रहे हैं कि रुश्दी के बाद अब मेरी बारी है। मैं अभी भी उलझन में हूं कि उन ट्वीट्स को डिलीट करूं या रिटेन करूं। शायद न करूं, अगर मुझे कुछ हो जाए तो लोगों को पता चल जाए। बेशक, मेरे पास सुरक्षा है, लेकिन रुश्दी के साथ जो हुआ उसके बाद कोई भी असुरक्षित महसूस करेगा, नहीं?”

जब भी इस्लाम के नाम पर हिंसा होती है, तो उदारवादी मुसलमानों की अजीबोगरीब चुप्पी पर वह जोर देकर कहती हैं कि उनका एक बहुत ही अलग चरित्र है।

“जबकि कुछ प्रगतिशील मुसलमान हिंसा के खिलाफ हैं, वे बोलने से डरते हैं क्योंकि इससे उनकी जान को खतरा हो सकता है। लेकिन फिर, चुप्पी दो प्रकार की होती है – एक जो डर से निकलती है – और दूसरी जो बिना बोले उनका समर्थन करने से आती है।”

Leave a Reply

Your email address will not be published.