CWG: विश्व चैंपियन निकहत जरीन ने जीता मुक्केबाजी में गोल्ड

Nikhat Zareen is ready to compete, is a medal contender from India's sideचिरौरी न्यूज़

नई दिल्ली: निकहत जरीन ने साबित कर दिया कि वह वर्तमान में भारत में सर्वश्रेष्ठ मुक्केबाज हैं। उन्होंने वजन कम करके एक नए भार वर्ग में विश्व चैम्पियनशिप का खिताब जीतने के लगभग तीन महीने बाद राष्ट्रमंडल गेम्स 2022 में स्वर्ण पदक अपने नाम किया। तेलंगाना की मुक्केबाज के सामने चुनौती थी कि वह विश्व चैंपियनशिप में 52 से अपना वजन 50 किलोग्राम तक कम कर लें, क्योंकि यह भार वर्ग है जो एशियाई खेलों और ओलंपिक कार्यक्रम का हिस्सा है।

निकहत ने इस चुनौती का सामना किया और यह उत्तरी आयरलैंड की कार्ली मैकनॉल के साथ उसके मुकाबले से स्पष्ट था। उन्होंने फाइनल में विरोधी पर 5-0 से बड़ी जीत दर्ज की।

राष्ट्रमंडल खेलों के लिए बमिर्ंघम आने से ठीक पहले उत्तरी आयरलैंड की राष्ट्रीय टीम के साथ एक प्रशिक्षण शिविर के दौरान मैकनॉल के साथ मुकाबला करने के बाद निकहत को अपने प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ योजना बनाने की जरूरत थी।

निकहत ने अपने मुकाबले के बाद आईएएनएस को बताया, “उत्तरी आयरलैंड में ट्रेनिंग कैंप ने मुझे इस प्रतिद्वंद्वी से मुकाबला करने का एक विचार दिया, क्योंकि मैंने पहले इस भार वर्ग में नहीं खेला है और कभी भी इनमें से किसी भी मुक्केबाज से नहीं लड़ा है। मैं भारतीय मुक्केबाजी महासंघ, भारतीय खेल प्राधिकरण और खेल मंत्रालय को शिविर की व्यवस्था के लिए धन्यवाद देना चाहती हूं।”

राष्ट्रमंडल गेम्स में निकहत का यह पहला स्वर्ण है, जो कि उनका टूर्नामेंट में अपनी पहली उपस्थिति है। वह 2018 में खेलों के लिए क्वालीफाई नहीं कर पाई क्योंकि एमसी मैरी कॉम से ट्रायल में हार गईं थीं।

निकहत पहले दौर से हावी रही, पांच जजों में से प्रत्येक से 10 अंक जीते। वह दूसरे दौर में भी एकदम सही थी और उन्होंने तीसरे और अंतिम दौर में भी अपनी लय बनाए रखी और एक प्रभावशाली जीत हासिल की।

निकहत रविवार को स्वर्ण पदक जीतने वाले तीसरी भारतीय मुक्केबाज हैं, जिन्होंने राष्ट्रमंडल खेलों 2018 से मुक्केबाजी रिंग में स्वर्ण के मामले में भारत के सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन की बराबरी की।

Leave a Reply

Your email address will not be published.