तेज प्रताप ने अपने पिता लालू प्रसाद की रिहाई के लिए राष्ट्रपति को लिखा पत्र, पत्र में है कई गलतियां

चिरौरी न्यूज़ इस पत्र की सत्यता को प्रमाणित नहीं करता है.

चिरौरी न्यूज़

पटना: राष्ट्रीय जनता दल के सुप्रीमों लालू प्रसाद की स्वास्थ्य को लेकर उनके समर्थकों के साथ साथ उनके परिवार के सदस्यों को भी चिंताएं हो रही है। लालू प्रसाद को रांची से एयर एम्बुलेंस के द्वारा दिल्ली लाया गया और अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संसथान में भर्ती कराया गया। लालू की बिगड़ती स्वास्थ्य और उनके उम्र को देखते हुए ये मांग की जा रही है कि उनको परोल पर रिहा किया जाय। इसी सिलसिले में उनके बड़े बेटे और बिहार के पूर्व स्वाथ्य मंत्री तेज प्रताप यादव ने महामहिम राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद से चिट्ठी लिखकर लालू की सजा खत्म करने की मांग की है।

लेकिन जैसे ही उनकी चिट्ठी लीक हुई, तेज प्रताप को सोशल मीडिया में ट्रोल किया जाने लगा, क्योंकि उनकी लिखी चिट्ठी में कई गलतियाँ हैं।यहाँ तक कि उन्होंने अपने पिता का नाम भी सही से नहीं लिखा है। आपको बता दें कि जब राम नाथ कोविंद बिहार के राज्यपाल थे तो शपथ ग्रहण के समय तेज प्रताप को अशुद्ध उच्चारण के लिए उन्होंने टोका था, अब फिर से उनको लिखे गए चिट्ठी में कई गलतियाँ होने पर लोग सोशल मीडिया में इसे ट्रोल कर रहे हैं।

तेज प्रताप ने अपने पत्र में ‘आदरणीय श्री लालू प्रसाद जी की जगह ‘आपरणीय श्री लालु प्रसाद जी’ लिख दिया है। उन्होंने ‘मसीहा’ को ‘मसिहा’ ‘मूल्य’ को ‘मुल्य’, ‘गरीबों’ को ‘गरीवों’, और ‘वंचित’ को ‘बंचित’ लिखा है।

हालांकि तेज प्रताप की पार्टी के लोग उनकी मुहिम को अपने पिता के लिए प्यार बता रहें हैं जबकि विपक्षी दलों के नेता उनका मजाक उड़ा रहे हैं। बता दें कि बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव ग्यारहवीं तक पढ़े हैं। 12वीं में फेल होने के बाद उन्होंने पढ़ाई छोड़ दी थी।

(नोट: चिरौरी न्यूज़ इस पत्र की सत्यता को प्रमाणित नहीं करता है)

Leave a Reply

Your email address will not be published.