रिंग में फिर मुक्के बरसाने को आ रहे माइक टायसन

उपासना सिंह

नई दिल्ली: माइक टायसन एक ऐसा नाम है जोकि पिछले करीब तीन दशकों से लगातार सुर्खियों में रहा है। लेकिन खास बात यह रही कि इसके कारण हर बार ही अलग-अलग रहे। कभी दुनिया के सबसे युवा हैविवेट बॉक्सिंग चैंपियन बनने वाले टायसन का नाम एक बार लोगों की जुबां पर चढ़ा है। जिक्र है कि वह कोविड-19 महामारी के लिए धन जुटाने के लिए रिंग में उतरने वाले हैं। ऐसे में यह चर्चा भी आम हो गई कि टायसन के सामने इवांडर हॉलीफील्ड होंगे। लेकिन शायद वहां बात नहीं बनी।

लेकिन अब टायसन के विपक्षी मुक्केबाज का खुलासा हो गया है। पूर्व हैविवेट चैंपियन शैनोन ब्रिग्स ने खुद खुलासा किया है कि वह इस प्रदर्शनी मुकाबले में टायसन के खिलाफ रिंग में उतरने जा रहे हैं। टायसन अभी 53 साल के हैं और उन्होंने अपनी पिछली फाइट 15 साल पहले लड़ी थी। वहीं शैनोन की उम्र 48 साल है और वह 2016 के बाद से रिंग में नहीं उतरे हैं।

टायसन की अजबगजब कहानी

महज 20 साल की उम्र में हैविवेट बॉक्सिंग चैंपियन बनने वाले टायसन का रिंग के अंदर इस तरह का खौफ ऐसा था कि उन्हें ‘बैडेस्ट मैन ऑन द अर्थ’ के नाम की उपमा मिल गई। टायसन ने अपने करियर में 19 मुकाबले सीधे नॉकआउट से ही जीते जिसमें से 12 मुकाबले तो पहले राउंड में ही खत्म हो गए। इससे आप अनुमान लगा सकते हैं कि टायसन के पंच कितने जोरदार रहे होंगे।

लेकिन जब वह अपने करियर की ऊंचाइयों पर थे तभी 1992 में बलात्कार के जुर्म में उन्हें 6 साल जेल की सजा हो गई। जेल की सजा पूरी करने के बाद जब वह दोबारा रिंग में उतरे तो उनकी बाजुओं में वह लोहा नजर नहीं आया, जिसकी वजह से उन्हें आयरन माइक का नाम दिया गया था। हालांकि उन्होंने लगातार फाइट जीते, लेकिन वर्ल्ड हैविवेट चैंपियनशिप की फाइट में इवांडर हॉलीफील्ड ने उन्हें पस्त कर दिया। इसके बाद गुजरते वक्त के साथ टायसन का ग्राफ भी गिरता गया। इसे फिर से उठाने के लिए उन्होंने हॉलीफील्ड को दोबारा चुनौती दी, लेकिन इस बार हॉलीफील्ड के मुक्कों से त्रस्त होकर उन्होंने अपने दांतों से हॉलीफील्ड के कान काट लिए। इसके बाद बॉक्सिंग जगत में टायसन की बहुत थू-थू हुई। वह दोबारा वह सम्मान और रुतबा हासिल नहीं कर पाए। एक इंटरव्यू में उन्होंने स्वीकारा कि उन्हें कभी कभी अपनी जिंदगी से घृणा होती है।

हालांकि उनकी जिंदगी को देखकर नहीं लगा कि उन्हें कोई मलाल है। लोगबाग कुत्ते-बिल्ली पालते हैं लेकिन टायसन की सनक ऐसी थी कि उन्होंने दो शेरों को ही पाल रखा था। रिंग से बढ़ती दूरी और लक्जरी लाइफ स्टाइल की वजह से वह 2003 में दिवालिया भी घोषित हो गए। इतना ही नहीं ड्रग्स लेने के दोष में 24 महीने की उन्होंने जेल भी काटी। फिलहाल भांग की खेती से वह अच्छी कमाई कर रहे है।

टायसन       Vs          ब्रिग्स

53          उम्र          48

58          फाइट्स       68

50          जीते         60

44          नॉकआउट     53

6           हारे          6

5’10”        हाईट        6’4”

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.