कांग्रेस में किचकिच: आनंद शर्मा के बयान पर भड़के अधीर रंजन चौधरी

चिरौरी न्यूज़

कोलकाता: पश्चिम बंगाल चुनाव में फुरफुरा शरीफ के अब्बास सिद्दीकी के साथ गठबंधन को लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और तथाकथित जी-२३ ग्रुप के नेता आनंद शर्मा के द्वारा उठाये गए सवाल को लेकर राज्य के अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी भड़क गए और उल्टा आनंद शर्मा पर आरोप लगाते हुए पूछ लिया कि वह इस तरह का बयान किसके इशारे पर दे रहे हैं।

बता दें कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा फुरफुरा शरीफ के अब्बास सिद्दीकी के साथ गठबंधन को लेकर कहा था कि यह कांग्रेस की आत्मा के विरुद्ध गठजोड़ है। अधीर रंजन चौधरी ने अपनी पार्टी के सहयोगी आनंद शर्मा की तरफ से सवाल खड़े किए जाने के बारे में पूछे जाने पर कहा, “मैं जो कुछ कर रहा हूं, वह सब आलाकमान को बताकर किया जा रहा है।” अधीर रंजन चौधरी ने पलटवार करते हुए कहा कि आनंद शर्मा बीजेपी को खुश करने वाला बयान दे रहे हैं।

उन्होंने कहा कि, ”आनंद शर्मा का यह बयान बीजेपी की लाइन है, बीजेपी में सांप्रदायिक बनाना चाहती है और यह बयान भी वैसा ही है। पश्चिम बंगाल में यह आनंद शर्मा को पहचानता नहीं है और उनकी बात कोई तवज्जो भी नहीं देता है। इनकी कोई अहमियत नहीं है, यह ठन ठन गोपाल के बोलने से क्या होगा? ” उन्होंने कहा कि आनंद शर्मा ने ट्विटर पर जो लिखा वो कांग्रेस नेतृत्व की नजर में आने के लिए लिखा लेकिन उनकी बात बिल्कुल आधारहीन है।”

आनंद शर्मा ने पश्चिम बंगाल में मुस्लिम धर्मगुरु अब्बास सिद्दीकी के नेतृत्व वाले इंडियन सेक्युलर फ्रंट (आईएसएफ) के साथ पार्टी के गठजोड़ की आलोचना की। उन्होंने कहा कि सांप्रदायिकता के खिलाफ लड़ाई में चयनात्मक नहीं हो सकती है। हमें सांप्रदायिकता के हर रूप से लड़ना है। शर्मा ने ट्विटर पर कहा, ‘‘आईएसएफ और ऐसे अन्य दलों के साथ कांग्रेस का गठबंधन पार्टी की मूल विचारधारा, गांधीवाद और नेहरूवादी धर्मनिरपेक्षता के खिलाफ है।।। इन मुद्दों पर कांग्रेस कार्य समिति से मंजूरी लेने की जरूरत है।’

Leave a Reply

Your email address will not be published.