देश के युवाओं के लिए मिसाल बने अभिषेक कुमार, दे रहे ‘रोड एक्स्प्रेस’ से रोजगार

road-expressअंकित श्रीवास्तव

कहते हैं कि सफलता किसी की मोहताज नहीं होती,  मेहनत से आगे बढने वालों को कोई बाधा रोक नहीं सकती है। ऐसा ही एक मिसाल बन चुके हैं  बिहार के युवा इंजीनियर अभिषेक कुमार, जिन्होंने न सिर्फ अपने सपनों को साकार किया बल्कि पांच सौ से अधिक बेरोजगार लोगों को भी रोज़गार दिलाकर उन्हें सफल बनाया है।

हम आपको बताने जा रहे हैं, बिहार के चर्चित स्टार्टअप ‘रोड एक्सप्रेस’ की प्रेरक कहानी के बारे में, जिसे अभिषेक कुमार ने अपनी मेहनत और लगन से एक साल के अंदर एक करोड़ रुपये से अधिक का कारोबार कर कंपनी को सफल उद्योग के रूप में स्थापित किया।

बेंगलुरु के श्री वेंकटेश कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी से बीटेक कर चुके अभिषेक ने कुछ साल पहले नौकरियों के ऑफर ठुकरा कर स्वयं का उद्योग करने और दूसरों को रोजगार देने का मन बना लिया था।

अभिषेक को ट्रांसपोर्ट के इस स्टार्ट अप रोड एक्सप्रेस का आइडिया उन्हें बेंगलुरु से गृहक्षेत्र पटना आने के दौरान मिला था। साल 2018 में पटना में इंटर और इंट्रा स्टेट लॉजिस्टिक प्रोवाइडर फर्म की शुरुआत करने के बाद अभिषेक ने इस काम में अपने दोस्त सनी कुमार को भी साथ लिया और अपनी कंपनी को ‘रोड एक्सप्रेस’ का नाम दिया। कई मुश्किलों का सामना करते हुए सबसे पहले स्थानीय दुकानदारों, खुदरा विक्रेताओं से संपर्क किया, और दुकानों पर अपनी कंपनी का पोस्टर चिपकाना शुरू कर दिया। फिर अभिषेक ने माल ढोने वाले चार वाहन चालकों से संपर्क साधा और सामान यहां से वहां ले जाने के लिए लोगों को परिवहन सेवा उपलब्ध कराना शुरू कर दिया। धीरे धीरे कम्पनी कंपनी कामयाबी की सीढ़ी चढ़ने लगी।

बिहार की राजधानी पटना में ‘रोड एक्सप्रेस’ कंपनी चर्चित होने लगी और कंपनी के ग्राहकों की संख्या भी बढ़ने लगी। कंपनी की कामयाबी को देखते हुए अभिषेक ने कंपनी के नाम से मोबाइल एप्लीकेशन लांच कर ऑनलाइन आर्डर लेना भी शुरू कर दिया और धीरे-धीरे लगभग पांच सौ बेरोजगारों को कंपनी से जोड़कर मालवाहक वाहन चलाने का प्रशिक्षण दिलाना भी शुरू कर दिया।

इसके बाद तो आइआइटी और आइआइएम जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों से पासआउट छात्रों को भी रोड एक्सप्रेस ने प्रबंधन कार्य से जोड़ना शुरू किया, और जल्दी ही ‘रोड एक्सप्रेस’ का बिहार के सभी 38 जिलों में सामान ढोने का सफल कारोबार जम गया और भारत के दूसरे राज्यों में भी दस्तक देना शुरू कर दिया।

इनके काम की सराहना करते हुए नीतीश सरकार ने ‘रोड एक्स्प्रेस’ को सर्वश्रेष्ठ स्टार्टअप आइडिया का पुरस्कार दिया है। 12 फरवरी 2019 को’ रोड एक्सप्रेस’ को सिलिकॉन वैली कैलीफोर्निया जैसे देशों में स्टार्ट अप करने का प्रतिनिधित्व करने के लिए चुना गया। साल 2019 में ही कनाडा के टोरंटो में अपना कार्यालय खोलकर आशुतोष कुमार ने अपनी कंपनी को अंतरराष्ट्रीय पहचान दिलाकर एक नया कीर्तिमान स्थापित किया और कोका कोला जैसी बहुराष्ट्रीय कंपनी सहित एक हजार से ज्यादा संतुष्ट ग्राहक रोड एक्सप्रेस के पास हो गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.