फिटनेस के लिए जुम्बा जुम्बा

सोमा राजहंस

नई दिल्ली: नैन नक्श बहुत ही खूबसुरत हो लेकिन छरहरी काया न हो तो कोई आकर्षण नहीं रह जाता. वैसे भी मौटापा जहां कई सारी बीमारियों की जड़ है वहीं एक परफेक्ट लुक के लिए स्लिम बाॅडी भी होना जरुरी है, ऐसा नहीं है कि मोटे लोग सुदंर नहीं लगते लेकिन, पतले होने से अगर आप स्वस्थ और सुदंर लग सकते हैं तो इसमें बुराई क्या है?
वेट लॉस करने के लिए कई सारे लोग जिम का सहारा लेते हैं लेकिन आपको जिमिंग बोरिंग लगती है, ऐसे में जुम्बा डान्स आपके लिए मददगार साबित हो सकता है. अगर आप फन को इंजाए करती हैं तो आपको जुम्बा बहुत अच्छा लगेगा. लैटिन म्यूजिक और सालसा, फ्लेमिंको, मरिंग, रेगेटन जैसे डांस में प्रेरित मूव्स पर थिरकने से आप खुद को रोक नहीं पाएंगे. जुंबा को आप घर पर म्यूजिक लगाकर भी आसानी से कर सकती हैं, लेकिन बेहतर यही होगा कि क्लासेज जॉएन करके इसके बेसिक मूव्स सीख लें. जुंबा न सिर्फ वजन कम करने का एक अच्छा तरीका है, बल्कि यह मांसपेशियों को भी मजबूत बनाता है. यह एरोबिक्स कैटेगरी के एक्सरसाइज में भी शुमार होता है. इसे नियमित तौर पर करने से हार्ट डिसीज, ओबेसिटी, थायरॉयड बीमारियों की आशंका कम हो जाती है. चूंकि इसे म्यूजिक के साथ किया जाता है इसलिए इससे शरीर में ताजगी का अहसास तो होता ही है हम स्ट्रेस फ्री भी हो जाते हैं. किसी अन्य डांस शैली से ज्यादा जुंबा शरीर के लचीलेपन को बढ़ाता है, यह शरीर के अंदरूनी संतुलन, समन्वय और तालमेल को भी दुरुस्त रखता है. इसके साथ ही कैलोरी बर्न करने और कार्डियो वैस्कुलर वर्क आउट के अलावा यह शारीरिक संतुलन सुधारने का एक मजेदार जरिया है और साथ ही यह आपके ब्लड प्रेशर और दिल को भी दुरुस्त रखता है. बच्चों के लिए भी जुंबा डांस काफी प्रभावी है यह उनके शारीरिक और मानसिक विकास के तौर पर काम करती है.

जुम्बा डांस में कई सारे मूव्ज होते हैं जो इस प्रकार है-

मेरेन :  मेरेन करते वक्त पैरों को थोड़ा ऊपर उठाते हुए शोल्डर और हिप्स को धुन पर घुमाया जाता है. इससे हिप्स, पैर और पेट की मांसपेशियों का व्यायाम होता है. मेरेन कर आप जल्दी फिट हो जाएंगी.
सालसा : सालसा में वन और टूए थ्री और फोर की गिनती शामिल होती है जैसे ही आपका दाहिना पैर वन पर आगे जाता है बायां पैर अंदर उस जगह पर आ जाता है. दाहिना पैर टू पर अंदर चला जाता है. थ्री और फोर पर इसी प्रक्रिया को बाईं तरफ दोहराया जाता है. सालसा कार्डियो एक्सरसाइज की तरह ही है यह शरीर के हर भाग का समुचित व्यायम कराता है.
कुंबिया : कुंबिया एक कोलंबियन लोक नृत्य है, यह आपकी सहनशक्ति बढ़ाता है. यह हिप हॉप और लैटिन का मिश्रण है. इससे कार्डियो वर्कआउट होता है.

कब करें जु्म्बा

मोटापा कम करने के अलावा जुंबा डांस एक फिटनेस प्रोग्राम है. जुंबा के मूवमेंट शरीर के हर पार्ट पर जोर देते हैं. जिससे वह हिस्सा टोंड होने लगता है. इसलिए जुंबा रोज करें ताकि आप स्लिम हो जाएं. यह बात सच है कि कई तरह के डांस वर्क आउट सही रिजल्ट नहीं देते क्योंकि वे सामान्य होते हैं. जिम की तरह आप सालसा डांस के सेशन को अपनी जरूरत के अनुसार नहीं कर सकती हैं. डांस करने से पूरे शरीर का वजन कम होगा जबकि जिम में केवल कमर थाइज और हिप्स का ही वजन कम किया जा सकता है. आप मनचाहे तरीके से और जरूरत के अनुसार जुंबा डांस को ढाल सकती हैं, लेकिन इसके लिए किसी एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें.

ध्यान रखें

-अगर आपको किसी भी प्रकार का कोई दर्द या सांस की बीमारी है, तो जुंबा क्लासेज को शुरू करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लें.
– जुंबा डांस को कम से कम 45 मिनट करना अनिवार्य है. अगर आप इससे कम देर करती हैं तो इसका मतलब है कि आपने सिर्फ वॉर्म अप ही किया है.
– जुंबा सेशन से पहले और बाद में अच्छी तरह वॉर्म अप और कूल डाउन करें. शरीर की सहन क्षमता के अनुसार ही इसका लुत्फ उठाएं.
– मूव्स को अच्छी तरह समझ लें कि कब ट्विस्ट करना चहिए और कब टर्न लेना चाहिए.
– जब तक आप अनुभवी न हों जाएं डीवीडी या वीडियो गेम्स के जरिए प्रैक्टिस न करें.
– किसी अच्छे ट्रेनर या इंस्ट्रक्टर की निगरानी में ही जुबां की प्रैक्टिस करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published.