पिछले 24 घंटे में कोरोना के 2573 नए मामले आए सामने

न्यूज़ डेस्क

नई दिल्ली: पिछले 24 घंटे में देश में 2573  नए मामले सामने आने के बाद देश में कोरोना संक्रमित मरीज की संख्या 42836 हो गयी है। पिछले दो दिनों से लगातार नए मामले बढ़ रहे हैं लेकिन बाकी देशों से तुलना करने पर भारत की स्तिथि काफी बेहतर है।

स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के संयुक्‍त सचिव लव अग्रवाल आज जानकारी देते हुए बताया कि कोरोना वायरस के पिछले 24 घंटे में 2573 नए केस आए हैं और 83 मौत हुई है। अब देश में कोरोना के पॉजिटिव केस 42836 हैं, जिनमें 29685 सक्रिय केस हैं और 11762 अस्‍पताल से डिस्‍चार्ज हो चुके हैं। अब तक 1389 लोगों की मौत हुई है। रिकवरी रेट 27.52 फीसद है।

उन्‍होंने कहा कि शारीरिक दूरी का पालन जरूरी है, नहीं तो कोरोना वायरस के मामलों में तेजी आ सकती है। सामान खरीदारी के समय सतर्कता जरूरी है। सावर्जनिक स्‍थानों पर सतर्कता जरूरी है। वहां पर फेस मास्‍क लगाना जरूरी है। उनका कहना है कि हमारी गाइडलाइन है कि जो जहां है, वहीं रहे।

भारत में लॉकडाउन की वजह से वैसे हालात नहीं हुए जैसे बाकी देशों में हुए। वहीं बाकी देशों से तुलना करने पर भारत के हालात इसलिए भी बेहतर है क्योंकि भारत में 10 लाख ज्यादा टेस्ट होने पर भी उतने मरीज नहीं है जितने बाकी दुनिया के देशों में है। केंद्र सरकार के मुताबिक इस समय भारत में स्तिथि नियंत्रण में है। बाकी देशों की तुलना के मुकालबे हालात काफी बेहतर हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ र्हषवर्धन ने कहा “अभी भारत में कंट्रोल है। इस वायरस बीमारी का प्रकोप पूरी दुनिया के मुकाबले भारत में काफी कम है। सारे विकसित देश और उनके डाटा उनके यहां पेशेंट्स डैथ देखें और इसका भारत से कंपैरिजन करेंगे तो हालात बेहतर है।”  “देश में डबलिंग यानी कोरोना मामलों के बढ़ने की दर 12 दिन हो गई है। जबकि शुरुवात में ये 3 से 4 दिन थी। वहीं भारत में कोरोना संक्रमित मरीज भी तेजी से ठीक हो रहे हैं। भारत में कम मामले के लिए स्वास्थ्य मंत्री सही समय पर लॉकडाउन के फैसले को मानते है। यही वजह है की तीसरी बार जब लॉकडाउन को बढ़ाया गया तो कुछ छूट भी दी गई है।”

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा के ना हम सिर्फ दुनिया में सभी पैरामीटर्स पर बेहतर हैं बल्कि मदद के मामले में भी आगे हैं। दुनिया के देशों को इस समय कुछ दवाइयों को सिर्फ भारत दे रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.