कोविड19 के बाद अफोर्डेबल हाउसिंग की डिमांड में होगी वृद्धि 

चिरौरी न्यूज़ डेस्क

जहाँ एक ओर ग्लोबल कोरोना वायरस के कारण पुरे विश्व  की अर्थव्यवस्था को चोट पहुंची है वहीं दूसरी तरफ इसका समाधान भी निकला गया है। इस बात में कोई शक नहीं है की कोविड १९ की वजह से रियल एस्टेट सेक्टर की परेशानी बढ़ी है पर आने वाले समय में इससे उभरने के उपाय भी सोचे गए हैं। लॉक डाउन के बाद से ही सभी कंस्ट्रक्शन साइट्स का काम बंद रहा और खरीदार भी साइट विजिट के लिए नहीं आ पाए। परन्तु  समस्या के समय में रियल सेक्टर में अब नए ट्रेंड सेट हो रहे हैं। अब लोगों को घर खरीदने के लिए ज्यादा मशक्कत नहीं करनी पड़ेगी। साइट वीजिट से लेकर घर की खरीदारी और रजिस्ट्रेशन सबकुछ वर्चुअल होगा। वहीं, जिन लोगों ने अब तक घर खरीदने को तव्वजों नहीं दी वे भी अब अपना घर खरीदना चाहेंगे।

एमआरजी वर्ल्ड के जॉइंट मैनेजिंग डायरेक्टर श्री  रजत गोयल के अनुसार कोविड १९ के बाद अफोर्डेबल हाउसिंग की डिमांड में होगी वृद्धि क्यूंकि जो लोग अन्य राज्यों से आकर दिल्ली गुडगाँव में काम करते हैं और किराये पर रहते हैं अब घर खरीदने के लिए सोच रहे हैं।  इसका कारण है की लॉकडाउन के दौरान किराये के चलते उन्हें कठिनाई का सामना झेलना पड़ा। यही नहीं कुछ लोग तो पलायन तक कर चुके हैं। अगर अपना घर होता तो इस तरह की परेशानी नहीं होती। ज्यादातर लोग बैंक में, एफडी या फिर मार्केट में निवेश करने से बेहतर अपना घर खरीदना पसंद करेंगे।

रजत ने आगे बताया की अब डेवलपर भी घर बनाने में कुछ खास बातों का ध्यान रखेंगे जैसे एंट्री गेट पर सैनी टाइज़ेशन की उचित सुविधा, सोसाइटी में हर जरुरत का सामान उपलब्ध होना जैसे फल, सब्जी, राशन, दवा, साफ सफाई का सामान, स्टेशनरी इत्यादि। मेड, गार्ड व अन्य कर्मचारियों का महीने में एक बार मेडिकल चेक अप होना अनिवार्य हो जायेगा।

अंकित कंसल मैनेजिंग डायरेक्टर ३६० रियलटर के अनुसार लॉकडाउन के दौरान हाउसिंग सेक्टर में ऑनलाइन सर्च बढ़ी है। इस मौके का फायदा उठाने के लिए डवलपर्स भी खरीदारों के साथ बातचीत और अपनी योजनाओं, ऑफर और इस तरह के अन्य विवरणों को एसएमएस, व्हाट्सएप, मेल और कॉलिंग के माध्यम से अधिकतम लोगों तक पहुंचाने के लिए प्रभावी तरीके अपना रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.