दिल्ली भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता हिरासत में, कर रहे थे केजरीवाल सरकार के फैसले के खिलाफ प्रदर्शन

न्यूज़ डेस्क

नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली में राज्य सरकार के अस्पतालों में बाहरी लोगों के इलाज न करने के केजरीवाल सरकार के फैसले के खिलाफ विरोध शुरू हो गया है। जैसे ही दिल्ली कैबिनेट के फैसले की जानकारी दिल्ली भाजपा कार्यालय के पदाधिकारियों को हुई वैसे ही प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता के नेतृत्व में पार्टी नेता राजघाट पहुंच गए और प्रदर्शन करने लगे।

वहां पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे दिल्ली प्रदेश भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता सहित कई कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया। मिली जानकारी के मुताबिक आदेश गुप्ता और अन्य नेताओं को बस में बैठाकर राजेंद्र नगर पुलिस थाने ले जाया गया है।

बता दें कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को फैसला किया है कि सरकारी अस्पतालों में दिल्ली के लोगों का ही इलाज  किया जाएगा। जब तक कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं तब तक दिल्ली सरकार के अस्पतालों में बाहरी मरीजों का इलाज नहीं होगा। इसके अलावा प्राइवेट अस्पतालों में भी सिर्फ दिल्ली के लोगों का ही इलाज होगा। दिल्ली सरकार के इसी फैसले का भाजपा ने कड़ा विरोध किया है। इसी के मद्देनजर आदेश गुप्ता के नेतृत्व में भाजपा नेता राजघाट पर प्रदर्शन करने गए थे।

दिल्ली भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता सहित कई बीजेपी नेताओं ने ये आरोप लगाया था कि दिल्ली सरकार मरीजों के साथ मनमानी करने वाले अस्पतालों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर रही है। आदेश गुप्ता ने कहा कि सरकार को बयान देने के बजाय अस्पतालों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए। उन्होंने दिल्ली सरकार के अस्पतालों में व्यवस्था सुधारने की भी मांग की।

उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार अपनी विफलता छिपाने के लिए कभी केंद्र सरकार पर झूठे आरोप लगाती है, कभी निजी अस्पतालों की आड़ लेती है। स्वास्थ्य सुविधाओं को सुधारने के नाम पर कुछ नहीं किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री केजरीवाल कुछ निजी अस्पतालों को अन्य राजनीतिक पार्टियों के साथ साठगांठ होने की बात कह रहे हैं। इसके विपरीत सच्चाई यह है कि आम आदमी पार्टी (आप) के नेताओं की मिलीभगत से निजी अस्पताल मनमानी कर रहे हैं। यही कारण है कि अस्पतालों के खिलाफ शिकायतें आने के बाद भी केजरीवाल सरकार ने कोई कार्रवाई नहीं की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.