वर्चुअल रैली में बोले अमित शाह, अब 2.5 करोड़ लोगों के घरों में बिजली आई, लालटेन का जमाना गया

न्यूज़ डेस्क

नई दिल्ली: कहने को तो ये वर्चुअल रैली जनता के साथ जनसंवाद स्थापित करने के लिए थी, लेकिन केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह के द्वारा कहा गया एक एक शब्द चुनावी रैली की तरह थी। गृहमंत्री ने बिहार की मुख्य विपक्षी पार्टी आरजेडी को निशाने पर लेते हुए कहा कि अब 2.5 करोड़ लोगों के घरों में बिजली आई है। पहले लोगों को लालटेन से काम चलाना पड़ता था, अब लालटेन का जमाना गया। बता दें कि आरजेडी का चुनावी चिन्ह लालटेन है।

रैली को संबोधित करने के दौरान उन्होंने केंद्र सरकार की उपलब्धियों को गिनाते हुए कहा कि, ”मोदी जी ने 8 करोड़ ग़रीब जनता को सिलेंडर देकर उन्हें गंदे धुएं से बचाने का काम किया। अंधेरा हुआ करता था अब 2.5 करोड़ लोगों के घर में बिजली आयी। पहले लोगों को लालटेन से काम चलाना पड़ता था। अब लालटेन का ज़माना गया।”

अमित शाह ने कहा कि इस रैली का चुनाव से कोई लेना देना नहीं है। जनसंपर्क अभियान बंद नहीं कर सकते हैं। देशभर में 75 रैली करेंगे।आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने गृहमंत्री के वर्चुअल रैली का विरोध थाली बजा कर किया था। इस पर अमित शाह ने कहा कि कुछ लोगों ने थाली बजाकर इस रैली का विरोध किया। विरोधियों ने पीएम मोदी की बात मानी। उनका निशाना आरजेडी नेता तेजस्वी यादव और राबड़ी देवी पर था।

उन्होंने कहा, ”बीजेपी लोकतंत्र में विश्वास रखती जनतंत्र में विश्वास करती है, जनसंपर्क में विश्वास रखती है, कोरोना की महामारी में जब सब लड़ रहे हैं ।।।हम कैसे संपर्क करें?  हम अपने संस्कार नहीं गवां सकते हैं । अपना संस्कार बचाए रखना चाहते हैं। इसलिए वर्चुअल रैली के जरिये लोगों से जनसंपर्क रखना चाहते हैं।” अमित शाह ने कहा कि जनता कर्फ्यू भारत के लोकतांत्रिक इतिहास के अंदर स्वर्णिम अक्षरों में लिखा जाएगा कि देश के एक नेता की अपील पर कोई पुलिस बल प्रयोग किए बगैर पूरे देश ने घर के अंदर रहकर अपने नेता की अपील का सम्मान किया। पीएम ने महामारी के खिलाफ देश को जोड़ा है।

अमित शाह ने वर्चुअल रैली में कांग्रेस नेता राहुल गाँधी पर भी निशाना साधा और कहा कि विपक्ष सिर्फ आलोचना करना जानते हैं। उनके पास कोई काम नहीं है। इसके साथ ही उन्होंने कोरोना वायरस से जान गंवाने वालों के प्रति अपनी संवेदना जताई। गृह मंत्री ने कहा, ”जिन लोगों ने कोरोना काल में अपनी जान गवानी हैं उनके प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.