कोरोना काल के नायकों का सम्मान करेगी एनयूजे-आई, गठित की चयन समिति


नई दिल्ली। नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स-इंडिया ने कोरोना काल में उल्लेखनीय कार्य करने वाली संस्थाओं और व्यक्तिओं को कोरोना काल के नायक सम्मान से सम्मानित करने की घोषणा की है. कोरोना महामारी के बीच फ्रंटलाइन वारियर्स बनकर कार्य कर रहे प्रोफेशनलस, आम लोगों और संस्थाओं का इस सम्मान हेतु चयन करने के लिए एक सात सदस्यीय चयन समिति का गठन किया है। समिति के अध्यक्ष जाने-माने पत्रकार और एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया के पूर्व अध्यक्ष डा.आलोक मेहता होंगे। समिति में असम के पूर्व अतिरिक्त मुख्य सचिव और रिटायर आईएएस श्री कमलकांति मित्तल, राममनोहर लोहिया अस्पताल के पूर्व मुख्य चिकित्सा अधीक्षक और स्वयंसेवी संस्था चौपाल के अध्यक्ष डा. आर एस टोंक, भारत के पूर्व हॉकी ओलंपियन और वर्ल्ड कप चैंपियन टीम के खिलाड़ी श्री अशोक ध्यानचंद, उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्य सूचना निदेशक श्री टी एस राणा, सुप्रीम कोर्ट के वकील और पर्यावरणविद श्री अश्विनी दुबे और प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के सदस्य एवं पत्रकार श्री आनंद राणा शामिल हैं।

जंतर मंतर रोड स्थित एनयूजे-आई मुख्यालय में शनिवार को आयोजित प्रेस कांफ्रेस में एनयूजे-आई के अध्यक्ष रास बिहारी, दिल्ली जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन (डीजेए) के अध्यक्ष राकेश थपलियाल और महासचिव केपी मलिक ने बताया कि कोरोना महामारी के प्रकोप के दौरान विभिन्न क्षेत्रों के व्यक्तियों ने गरीबों को भोजन, राशन, आर्थिक सहायता और अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराई। राजनीतिक दलों के नेताओं, डॉक्टर, पैरामेडिकल स्टाफ, प्रशासनिक अधिकारियों, पुलिसकर्मियों और पत्रकारों ने इस संकटकाल में जरूरतमंद लोगों की मदद में विशेष भूमिका निभाई है। कुछ लोग संक्रमित भी हुए। दुर्भाग्य से कोरोना से संक्रमित होने के कारण कई कोरोना योद्धाओं की मौत हो गई। पूरे देश में एनयूजे-आई और सम्बंधित राज्य इकाइयों की तरफ से कोरोना काल के नायकों का सम्मान किया जाएगा। प्रेस कांफ्रेस का प्रसारण वेबनार के माध्यम से भी किया गया।

प्रेस कांफ्रेस को एनयूजे-आई महासचिव श्री प्रसन्ना मोहंती और अन्य पदाधिकारियों ने भी संबोधित किया। एनयूज-आई के कोषाध्यक्ष डा अरविन्द सिंह उत्तर प्रदेश, उपाध्यक्ष प्रदीप तिवारी मध्य प्रदेश, एमडीवीएसआर पुन्नम राजू आंध्र प्रदेश, सैयद जुनैद जम्मू-कश्मीर, भूपेन गोस्वामी असम, रामचंद्र कन्नोजिया उत्तराखंड, सचिव कमलकांत उपमन्यु उत्तर प्रदेश, पंकज सोनी राजस्थान, कथा करी कंधास्वामी तमिलनाडु और प्रशांत चक्रवती त्रिपुरा ने भी संबोधित किया।

इस अवसर पर जंतर मंतर कार्यालय में डीजेए के पदाधिकारी मौजूद थे। श्री राकेश थपलियाल ने बताया कि एनयूजे अध्यक्ष रास बिहारी ने चयन समिति के सदस्यों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। चयन समिति के अध्यक्ष डा.आलोक मेहता नवभारत टाइम्स, दैनिक हिन्दुस्तान सहित कई समाचारपत्रों में संपादक रहे। नईदुनिया, आउलटलुक और गर्वनेंस नाऊ में मुख्य संपादक रहे। पदमश्री से सम्मानित श्री मेहता ने 50 से ज्यादा किताबे लिखी हैं। 1983 बैच के आईएएस अधिकारी श्री मित्तल ने असम सरकार के महत्वपूर्ण विभागों का जिम्मा संभाला और कृषि क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य किया। डा. आर एस टोंक चिकित्सा जगत की जानी-मानी हस्ती हैं। स्वास्थ्य जगत में काम करने वाली चौपाल संस्था के माध्यम से देशभर में दो हजार से ज्यादा स्वास्थ्य शिविरों का आयोजन किया। पर्यावरण, नशाबंदी, महिला सशक्तीकरण और गांवों में स्वच्छता के लिए उल्लेखनीय कार्य किए। सुप्रीम कोर्ट के वकील अश्विनी दुबे जाने-माने मानवाधिकार कार्यकर्ता और पर्यावरणविद हैं। प्रमुख टीवी चैनलों पर कानूनी और अन्य मुद्दों पर हिस्सा लेतें हैं। टी एस राणा ने उत्तर प्रदेश सूचना केंद्र प्रभारी रहते हुए कई मुख्यमंत्रियों के साथ काम किया। प्रेस कॉउन्सिल ऑफ इंडिया के सदस्य आनंद राणा 20 साल से ज्यादा समय से पत्रकारिता में हैं। गांव, किसान से लेकर राजनैतिक मुद्दों पर प्रमुख रूप लिखते रहने के साथ ही पत्रकारों की समस्याओं पर बेबाकी से बोलते रहे हैं.

श्री रास बिहारी ने बताया कि चयन समिति को ईमेल- nujindia@gmail.com पर कोरोना के बीच जनसेवा और मदद में जुटी संस्थाओं और व्यक्तियों की जानकारी भेजी जा सकती है. जानकारी 30 मई, 2020 तक भेज सकते हैं। जानकारी भेजने के लिए संस्था-व्यक्ति का नाम, पूरा पता, फोटो, मोबाइल नंबर और कार्य का विवरण फोटो सहित भेजना होगा। एनयूजे-आई के पदाधिकारियों और संबंधित राज्य इकाइयों के माध्यम से भी जानकारी भेज सकती है। इसकी पूरी जानकारी एनयूजे-आई की वेबसाइट www.nujindia.com पर उपलब्ध हैं। प्राप्त जानकारी के आधार पर सम्मान हेतु व्यक्तियों स्थाओं का चयन किया जाएगा

Leave a Reply

Your email address will not be published.