धोनी की वजह से बना पाया पहला दोहरा शतक: रोहित शर्मा

न्यूज़ डेस्क

नई दिल्ली: क्रिकेट की दुनियां में रोहित शर्मा को एक ऐसे बल्लेबाज़ के रूप में जाना जाता है, जो कभी भी मैच का रुख पलट सकता है। उनके द्वारा एकदिवसीय मैचों में तीन दोहरे शतक इस बात की गवाही देता है। अब तक रोहित ही एकलौता खिलाड़ी हैं जो तीन-तीन दोहरा शतक लगा चुके हैं, जबकि विश्व क्रिकेट में कई नामी गिरामी बल्लेबाज़ हैं जो अपने विस्फोटक अंदाज के लिए जाने जाते हैं।

अपने पहले दोहरे शतक के बारे में इंस्टाग्राम पर रविचंद्रन अश्विन से बात करते हुए रोहित ने कहा कि उस वक्त टीम के कप्तान एमएस धौनी ने उन्हें ये करने के लिए प्रेरित किया था। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ लगाए अपने पहले दोहरे शतक के बाद उन्होंने फिर से दो और दोहरा शतक लगाया था।  रोहित ने कहा कि धोनी उन्हें बार बार कहते थे कि मौका मिला है तो उसका भरपूर फायदा उठाना चाहिए। रोहित ने कहा कि धोनी उनसे बार बार यही कहते थे कि पारी के अंत तक टिके रहना है। उनकी बातों ने ही मुझे प्रेरित किया और मैं अपना पहला दोहरा शतक लगाने में कामयाब हुआ।

2013 में बैंगलोर में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ इस मैच में उन्होंने शिखर धवन और सुरेश रैना के साथ अच्छी साझेदारी की थी, लेकिन 38 गेंदों पर धौनी के 62 रन की साझेदारी सबसे महत्वपूर्ण साबित हुआ।

रोहित शर्मा ने कहा कि मैंने सच में ये कभी नहीं सोचा था कि वनडे में कभी दोहरा शतक लगा पाउंगा। यादों को साझा करते हुए उन्होंने कहा कि, “मैं अच्छी बल्लेबाजी कर रहा था, इसके बाद थोड़ी सी बारिश हो गई, मैच शुरू हुआ तो शिखर और विराट आउट हो गए, रैना के साथ मैंने अच्छी साझेदारी की, फिर वो भी आउट हो गए साथ ही युवी भी ज्यादा देर तक नहीं टिक पाए। फिर मैंने धौनी के साथ 48वें ओवर तक बल्लेबाजी की और इस दौरान वो मुझे लगातार प्रेरित करते रहे। रोहित ने कहा कि धोनी ने उनसे कहा कि मैं रिस्क लूंगा, लेकिन तुम सेट बल्लेबाज हो और मैं चाहता हूं कि तुम पूरे 50 ओवर तक खेलो। उन्होंने ना सिर्फ मुझे प्रेरित किया बल्कि इस बड़ी पारी को पूरा करने में सहयोग भी किया।

इस दोहरे शतक के बाद रोहित शर्मा ने दो और दोहरे शतक लगाए हैं जो श्री लंका के खिलाफ हैं।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.