रियल लाइफ के हीरो बने सोनू सूद

आकांक्षा सिंह

नई दिल्ली: कोरोना के चलते पूरा भारत लॉकडाउन के दौर से गुज़र रहा है। ऐसे में कई प्रवासी मजदूरों के पास काम नहीं होने से अपने घर वापस लौटने के लिए वो सरकार से गुहार लगा रहें हैं।  कई प्रवासी मजदूरों ने तो सहायता नहीं मिलने पर पैदल ही सफ़र तय करने लगे हैं।

इन दिनों अभिनेता सोनू सूद ने अपनी ज़िंदादिली दिखा कर यह साबित कर दिया कि वह सिर्फ रील लाइफ के हीरो नहीं बल्कि रियल लाइफ के भी हीरो है। कोरोना संकट के इस दौर में सोनू सूद महाभारत के दानवीर कर्ण बन गए है और प्रवासी मजदूरों की सहायता कर रहे है। उनका कहना है कि जब तक हर एक प्रवासी अपने घर सुरक्षित नहीं पहुंच जाएगा उनका यह अभियान जारी रहेगा।

अभिनेता सोनू सूद ने मुंबई में रह रहे प्रवासी मजदूरों की मदद के साथ ही पिछले दिनों अपने पैतृक राज्य पंजाब के डॉक्टरों को 1500 पीपीई किट उपलब्ध कराई थीं और मुंबई में जुहू स्थित अपना होटल को ड्यूटी में लगे डॉक्टरों, नर्सों व अन्य स्वास्थ्य कर्मियों को समर्पित कर दिया।

सोनू सूद की पूरी टीम प्रवासी मजदूरों का पता लगाने में जुटी हुई है, फ़ोन कॉल्स, ट्विटर एवं ईमेल के जरिये जिन मजदूरों के पता चलता है सोनू सूद खुद उनसे मुलाकात करते है और उन्हें घर भेजने का व्यवस्था करते हैं।

सोनू सूद की इस मुहिम पर हर कोई उनके तारीफ का पुल बांध रहा है। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने सोनू सूद के एक ट्वीट को री-ट्वीट करते हुए कहा कि उन्हें सोनू पर गर्व है। स्मृति ने लिखा, “सोनू ये मेरा सौभाग्य है कि मैं एक प्रोफेशनल साथी के तौर पर दो दशकों से आपको जानती हूं और अभिनेता के तौर पर आपकी प्रगति पर खुश हूं। ऐसे चुनौतीपूर्ण हालात में आपने जिस तरह की दयालुता दिखाई है, उसे देखकर मुझे आप पर और भी ज्यादा गर्व होता है। जरूरतमंदों की मदद के लिए आपका शुक्रिया।”

टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने भी प्रवासी मजदूरों की मदद करने के लिए सोनू सूद को सैल्यूट किया है। सोनू सूद के काम की तारीफ करते हुए अजय देवगन ने भी एक ट्वीट किया। अजय लिखते हैं- “प्रवासियों को सुरक्षित उनके घर वापस भेजने का जो संवेदनशील काम आप कर रहे हैं, वह अनुकरणीय है। आपके लिए और ज्यादा दुआएं सोनू।”

अपने इस काम को और भी बेहतर ढंग से अंजाम देने के किये सोनू सूद ने एक टोल फ्री नंबर जारी किया है जिससे वह और उनकी टीम मिल कर प्रवासियों की मदद कर रहे है। टोल फ्री नंबर के बारे में सोनू ने एजेंसी को दिए इंटरव्यू में कहा “मेरे पास रोज हजारों कॉल्स आ रहे थे। मेरे परिवार और दोस्त सारा डाटा इकट्‌ठा कर रहे थे तब हमने देखा कि ऐसे कई लोग हैं जो हम तक नहीं पहुंच पा रहे हैं। इसलिए हमने कॉल सेंटर खोलने का सोचा, यह टोल फ्री नंबर है। हमारे पास एक टीम है जो ज्यादा लोगों तक पहुंचने की कोशिश कर रही है। हमें नहीं पता हम कितनों की मदद कर पाएंगे, लेकिन हम कोशिश करेंगे।”

कोरोना काल में सोनू सूद प्रवासियों के मसीहा बन कर सामने आए है। सोचने वाली बात यह भी है कि जिस तरह सोनू सूद खुद अपने घर से बाहर कदम रख कर जरूरतमंद की मदद करने में जुड़े हुए है, उसी तरह अगर इंडस्ट्री के अन्य दिग्गज स्टार भी आगे बढ़ कर प्रवासियों की मदद करें तो स्थिति कितनी सुधर सकती है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.