प्रवासियों के लिए चलायी गई तेलंगाना से पहली स्पेशल ट्रेन

न्यूज़ डेस्क

नई दिल्ली: लॉकडाउन के कारण दूसरे राज्यों में फंसे लोगों के लिए रेलवे ने आज से एक नई पहल शुरू कर दी है। आज शुक्रवार को रलवे ने तेलंगाना के लिंगमपल्ली से झारखंड के हटिया तक एक स्पेशल ट्रेन चलायी है जिस से प्रवासियों को अपने घर पहुचाया जा सके। इस ट्रेन में 1,200 लोग सवार हैं, जो तेलंगाना में जगह जगह फंसे हुए थे। तक़रीबन 1200 लोगों को लेकर ये ट्रेन आज सुबह 4।50 बजे रवाना हुई। लॉकडाउन लागू होने के बाद पहली बार कोई यात्री ट्रेन चली है। आरपीएफ के महानिदेशक अरुण कुमार ने इसकी जानकारी दी।

रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) के महानिदेशक अरुण कुमार ने कहा, ‘तेलंगाना से झारखंड के लिए एक नॉन स्टॉप ट्रेन आज सुबह 1,200 प्रवासियों के साथ शुरू हुई।’ उन्होंने कहा कि ट्रेन सुबह 11 बजे के आसपास हटिया पहुंचेगी। केंद्र सरकार ने लॉकडाउन काल में भी प्रवासियों को अपने गांव- घर जाने की अनुमति बुधवार को ही दे दिया था। और इसके लिए जरुरी दिशानिर्देश भी जारी कर दिया गया था। यानी अलग अलग राज्यों मे फंसे मजदूर, छात्र, तीर्थयात्री, पर्यटक सड़क मार्ग से अपने घर लौट सकते हैं। लेकिन इसके लिए राज्यों के बीच आपसी सहमति होनी चाहिए और नोडल अधिकारी के जरिए ऐसे यात्रियों और समूहों को एक राज्य से भेजा जाएगा और दूसरे राज्य में उन्हें प्रवेश दिया जाएगा। इसके तहत वापसी के दौरान दो जगह पर स्क्रीनिंग की प्रक्रिया से गुजरना होगा और 14 दिन क्वारंटीन में भी रहना होगा।

झारखंड सरकार ने विशेष नॉन-स्टॉप ट्रेन से राज्य लौटने वाले प्रवासियों के टेस्ट और क्वारंटाइन के लिए पर्याप्त व्यवस्था की है। बता दें कि केंद्र सरकार ने बगैर कोरोना वायरस के लक्षण वाले प्रवासी मजदूरों, छात्रों और अन्य लोगों को घर लौटने की अनुमति दे दी है। केंद्र की ओर से जारी आदेश में  सभी राज्यों को अपने यहां फंसे लोगों को उनके गृह राज्यों में भेजने की तैयारी करने को कहा गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.