लॉकडाउन में पुलिस ने रोका तो कांग्रेस विधायक ने मारा थप्पड़

शिवानी राजवारिया

देश के किसी भी राज्य का कोई भी शहर क्यों ना हो संकट के इस माहौल में काम कर रहे कोरोना वॉरियर्स  के लिए लोगों की हिंसात्मक प्रतिक्रियाएं रुकने का नाम नहीं ले रही हैं। जहां एक तरफ उनकी हौसला अफजाई के लिए जगह-जगह उनको सम्मानित किया जा रहा है वही विकृत मानसिकता के चलते उन पर जानलेवा हमले भी किए जा रहे हैं।

गुजरात के मेहसाणा जिले के बेचराजी तालुका में शक्ति सर्कल पर तैनात ट्रैफिक पुलिस गार्ड को थप्पड़ जड़ने का मामला सामने आया है। ट्रैफिक रोड बिग्रेड (TRB) के गार्ड जितेंद्र मीनू प्रसाद रावल को कांग्रेस विधायक चंदन जी ठाकुर के थप्पड़ मारने की खबर ने फिर विपक्ष पर सवाल खड़े कर दिए है। चंदन जी ठाकुर पर आईपीसी की धारा 332, 188, 504, 506 (२), 186, 114 और आपदा प्रबंधन कानून की धारा 51(1) 51(b) के तहत मामला दर्ज किया गया है।

जितेंद्र मीनू प्रसाद रावल ने मामला दर्ज कराते हुए अपनी शिकायत में बताया है कि कांग्रेस विधायक की गाड़ी विलंगम हाईवे की तरफ से आ रही थी. टोयोटा इनोवा कार में बैठे चंदन जी ठाकुर से जब उन्होंने पूछा नॉक डाउन में बाहर जाने की पाबंदी है तो आप बाहर क्यों घूम रहे हैं तो गाड़ी में बैठे एक व्यक्ति ने उतर कर उनको थप्पड़ जड़ दिया और साथ ही गाली गलौज करने लगा। उन्होंने धमकी भी दी कि मैं सिद्धपुर का विधायक चंदन जी ठाकुर हूं। पूरे घटनाक्रम के दौरान एएसआई, हेड कांस्टेबल, कॉन्स्टेबल, टीआरबी के अन्य गार्ड्स भी मौजूद थे।

इस से पहले मध्यप्रदेश के रायसेन में जांच के लिए गई स्क्रीनिंग टीम को गांव में जाने ही नहीं दिया गया। उनको धमकी देकर डराया गया। वहीं, प्रदेश के श्योपुर जिले में स्क्रीनिंग के लिए गई टीम पर पथराव किया गया, जिसमें एएसआई जख्मी हो गए है। पुलिस ने सख्ती दिखाते हुए आरोपी को रासुका के तहत गिरफ्तार कर लिया है।

दरअसल, श्योपुर जिले के गसवानी गांव में गंगाराम शिवहरे का बेटा गोपाल हाल ही में इंदौर से वापस आया है। सूचना मिलने के बाद मेडिकल टीम गांव में स्क्रीनिंग के लिए गई थी। जब गंगा राम से बेटे को बुलाने के लिए कहा गया तो उसने टीम के साथ अभद्रता करनी शुरु कर दी। इसके बाद डॉक्टरों की टीम ने पुलिस को फोन कर मदद मांगी।डॉक्टरों की सूचना पर एएसआई श्रीराम अवस्थी बल के साथ गांव पहुंचे। पुलिस को देखते ही गंगाराम के परिवार का गुस्सा और फूट पड़ा और उन्होंने सभी पर पथराव शुरू कर दिया जिसमे एएसआई खुद ज़ख्मी हो गए। एएसआई को इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया है। जिले के वरीय पुलिस अधिकारियों को घटना के बारे में तुरंत जानकारी दी गई। एएसआई ने कहा कि हम लोग उन्हें समझा रहे थे कि आपकी सुरक्षा के लिए यह जरूरी है, तभी लोगों ने पथराव शुरू कर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.