सुपर साइक्लोन ‘अम्फान’ से निपटने की है पूरी तैयारी: एनडीआरएफ

न्यूज़ डेस्क

नई दिल्ली: एनडीआरएफ ने कहा है कि सुपर साइक्लोन ‘अम्फान’ से निपटने के लिए विभिन्न एजेंसी के साथ साथ एनडीआरएफ की टीम तैयार है। उड़ीसा और पश्चिम बंगाल में सुपर साइक्लोन ‘अम्फान’ के दौरान मदद पहुंचाने के लिए एनडीआरएफ की 36 टीमें तैनात की गई हैं। एनडीआरएफ के एस एन प्रधान ने सुपर साइक्लोन अम्फान के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि ये साइक्लोन फोनी साइक्लोन के बराबर है। कल किसी भी वक्त यह दस्तक दे सकता है। उन्होंने कहा कि एनडीआरअफ सहित तमाम विभाग लगातार निगरानी बनाएं हुए हैं। एनडीआरएफ की 15 टीम उड़ीसा में काम शुरू कर चुकी हैं।

वहीँ केंद्रीय कैबिनेट सचिव राजीव गाबा ने उड़ीसा और पश्चिम बंगाल में सुपर साइक्लोन ‘अम्फान’ के दौरान मदद पहुंचाने के लिए की गयी समीक्षा बैठक के दौरान अधिकारियों से कहा कि जब तक सुपर साइक्लोन ‘अम्फान’ दोनों राज्यों से गुजर नहीं जाता तब तक समीक्षा बैठकों का यह दौर जारी रहेगा।

कैबिनेट सचिव राजीव गाबा ने साइक्लोनिक स्टॉर्म ‘अम्फान’ से निपटने के लिए राज्यों, केंद्रीय मंत्रालयों और एजेंसियों की तैयारियों की समीक्षा करने के लिए राष्ट्रीय संकट प्रबंधन समिति (NCMC) की तीसरी बैठक की अध्यक्षता की। इस बैठक में मुख्य सचिव, ओडिशा और गृह सचिव, पश्चिम बंगाल ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से बैठक में भाग लिया।

एनडीआरआफ चीफ एस एन प्रधान ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए बताया कि ऐसा पहली बार हो रहा है जब हम दोहरी आपदा से लड़ रहे हैं। ये वक्त हमारे लिए बेहद चुनौतीपूर्ण है। प्रधान ने बताया कि ये साइक्लोन फोनी साइक्लोन के बराबर है। कल किसी भी वक्त यह दस्तक दे सकता है। उन्होंने कहा कि एनडीआरअफ सहित तमाम विभाग लगातार निगरानी बनाएं हुए हैं। एनडीआरआफ की 15 टीम उड़ीसा में काम शुरू कर चुकी हैं। 19 टीमें वेस्ट बंगाल में काम कर रही हैं। दो टीमें को बंगाल में रिजर्व में रखा गया है। उन्होंने बताया कि अगर रिजर्व टीमों को मिलाकर बताया जाया तो लगभग 41 टीमें तैनात हो चुकी हैं।
उन्होंने कहा कि हमने फोनी से सीख ली है और ऐसा पहली बार ऐसा हुआ है जब हम दोहरी आपदा से जूझ रहे हैं। उन्होंने बताया कि हम लोगों को कोरोना वायरस के साथ-साथ इस भयंकर आपदा से भी जूझना पड़ रहा है। हम लोग जितने भी राहत बचाव कर रहे हैं उन सभी में कोविड-19 की सुरक्षा पर ध्यान दे रहे हैं।
वहीँ मौसम विभाग के प्रमुख मृत्युंजय महापात्रा ने बताया है कि अम्फान साइक्लोन साल 1999 के बाद बंगाल की खाड़ी में आया दूसरा सुपर साइक्लोन है। इसकी हवा की रफ्तार 200 से 240 किलोमीटर प्रतिघंटा है और यह उत्तर और उत्तर पश्चिम दिशा की ओर से बढ़ रहा है। उन्होंने बताया कि जहां तक पश्चिम बंगाल की बात है, यहां पर उत्तर और दक्षिण 24 परगना और पूर्वी मिदनापुर जिले साइक्लोन के असर से प्रभावित हो सकते हैं। इसके अलावा कोलकाता, हुगली। हावड़ा और वेस्ट मिदनापुर के इलाकों में हवा की रफ्तार काफी तेज हो सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.