साँसों की दुर्गंध से हैं परेशान तो करें ये घरेलू उपाय

सीमा सिंह ठाकुर 

नई दिल्ली: भागदौड़ की ज़िन्दगी में कई लोगों को अपने लिए समय ही नहीं मिलता और बहुत ही छोटी-छोटी बातों पर ध्यान नहीं देने के कारण कई बार ऐसे लोग परेशानियों में आ जाते हैं। एक ऐसी ही समस्या है साँसों की दुर्गन्ध, जिससे कई बार सार्वजनिक जीवन में शर्मिंदगी भी झेलनी पड़ती है। लेकिन कुछ बातों पर ध्यान देकर इससे बचा जा सकता है।

साँसों की दुर्गन्ध या मुंह से बदबू आना बीमारी ही नहीं बल्कि इस बात का सूचक है कि आपके शरीर में सब कुछ अच्छा नहीं चल रहा है। ये एक इंडिकेशन है कि अगर तुरंत इस पर ध्यान नहीं दिया गया तो आप बीमार हो सकते हैं।

गाँव घर में बड़े बुजुर्ग कहते हैं कि दांत साफ़ तो आंत साफ़, यानी अगर आपने दांत अच्छे से साफ़ किया तो आपको पेट की समस्याओं से जूझना नहीं होना पड़ेगा। मुंह की बदबू को दूर करने के लिए सबसे बेहतर है घरेलू उपाय, जिसमें न तो ज्यादा समय देने की जरुरत है और न ही बार बार डॉक्टरों का चक्कर लगाने की।

मुंह की बदबू का क्या है कारण  

हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार रोज़ाना अच्छी तरह ब्रश नहीं करने के कारण ही किसी के मुंह से बदबू आती रहती है। आप अच्छे से ब्रश करें तो इस पर कुछ हद तक काबू पाया जा सकता है। कई बार अच्छे से ब्रश करने के बाबजूद भी मुंह से दुर्गन्ध आते रहता है जिसका कारण पाचन तंत्र का ठीक से काम नहीं करना है। दरअसल, जब खाना आंत में सड़ने लगता तो सांसों से दुर्गंध आती है। मुंह की दुर्गंध का एक कारण कब्ज भी है। इसके अलावा यदि मुंह में किसी तरह का घाव, दांतों की सड़न, पायरिया या फिर मसूड़ों की कोई बीमारी है तो इसकी वजह से भी आपके मुंह से बदबू आ सकती है।

भारतीय घरों में मौजूद कुछ चीज़ों के सेवन से मुंह की दुर्गंध से बचा जा सकता है।

तुलसी

हम सब जानते हैं कि तुलसी में कई औषधीय गुण होते हैं जो इस पौधे को बहुत खास बनाते हैं। तुलसी की पत्तियों का सेवन करने से मुहं की दुर्गन्ध को दूर किया जा सकता है। इसके अलावा अजमोद, पुदीना या सीताफल की ताजा टहनी को चबाने से मुंह की दुर्गन्ध को दूर होता है। इन पौधों में मौजूद क्लोरोफिल मुंह की बदबू दूर करने में मददगार होती है। इसके अलावा यदि आपके मुंह में किसी घाव के कारण बदबू आ रही है, तो तुलसी घाव को जल्दी ठीक करने में भी मदद करती है।

सेब का सिरका

सेब के सिरके में एंटीसेप्टिक गुण होते हैं जो बैक्टीरिया को पनपने नहीं देता है। 1 छोटी चम्मच सेब के सिरके को एक ग्लास पानी में मिलाकर खाने से पहले पीना चाहिए लेकिन जिन लोगों को सेंसेटिवटी की समस्या है वह इसे इस्तेमाल न करें।

दालचीनी

दालचीनी में सिनेमिक इसेंशियल ऑयल होता है जो लार में मौजूद दुर्गंध पैदा करने वाले बैक्टीरिया को खत्म करने में मदद करता है। दालचीनी के पानी से दिन में 3-4 बार कुल्ला करने से मुंह से दुर्गंध नहीं आती है। इसके लिए 1 छोटा चम्मच दालचीनी पाउडर पानी में डालकर 10 मिनट तक उबालें। ठंडा होने पर इसी पानी से कुल्ला करें।

सौंफ

खाना खाने के बाद सौंफ के सेवन से भी मुहं में दुर्गन्ध नहीं होता है। सौंफ के सेवन का दो फायदे हैं एक तो इससे आपका पाचन ठीक रहता है जो मुंह की दुर्गंध का एक बड़ा कारण है और दूसरा यह मुंह में दुर्गंध पैदा करने वाले बैक्टीरिया को खत्म कर देता है। आप खाने के तुरंत बाद सौंफ खा सकते हैं या सौंफ की चाय पी सकते हैं। आप चाहें तो लौंग और दालचीनी के साथ ही सौंफ का सेवन कर सकते हैं।

ग्रीन टी

ग्रीन टी आपकी सेहत का ख्याल रखने के साथ ही मुंह की दुर्गंध भी दूर करने में मदद करता है। ग्रीन टी में एंटीबैक्टिरियल तत्व होते हैं जो मुंह की बदबू दूर करने में मदद करते हैं। इन उपायों के साथ साथ अगर आप ओरल हायजीन का ध्यान रखेंगे तो मुहं की बदबू के कारण आपको सार्वजनिक जीवन में कभी भी शर्मिंदगी नहीं उठानी पड़ेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.