कोरोना के हर तीन में से एक मरीज हुआ ठीक: स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय

न्यूज़ डेस्क

नई दिल्ली: कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। भारत जैसे देश में जहाँ स्वास्थ्य सुविधाएँ विकसित देशों की तुलना में न्यून स्तर पर है, वहीँ मरीजों की संख्या दिन प्रतिदिन तेज गति से बढ़ना एक चिंता का विषय हो सकता है।

लेकिन इसी बीच आज स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी कोरोना के आंकड़ों ने उम्मीद की एक किरण जगा दी है। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के संयुक्‍त सचिव लव अग्रवाल ने कहा है कि कोरोना के हर तीन में से एक मरीज ठीक हो रहा है और रिकवरी रेट बढ़कर 29.36 प्रतिशत हो चुकी है।

शुक्रवार को गृह और स्‍वास्‍थ्‍य  मंत्रालय की संयुक्‍त प्रेस कांफ्रेस में स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के संयुक्‍त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि पिछले 24 घंटे में 3390 मामले सामने आए हैं, साथ ही 1273 मामले ठीक भी हुए हैं, रिकवरी रेट बढ़कर 29.36 प्रतिशत हो चुकी है।  इसका मतलब है कि अब तक भर्ती हुए हर तीन में से 1 मरीज रिकवर हो चुका है।

शुक्रवार को जारी अन्न्क्दो के अनुसार देश में अब तक 56, 342 केस आ चुके हैं। 37916 कोरोना के ऐक्टिव केस हैं। अब तक 16540 लोग ठीक हो चुके हैं। अब तक 1886 लोगों की मौत हो चुकी है। उन्होंने बताया कि गुरुवार तक के आंकड़ों के अनुसार, 3.2 फीसद मरीज ऑक्सीजन सपॉर्ट पर हैं, 4.7 फीसद मरीजों को आईसीयू सपॉर्ट से संबंधित सेवाएं दी जा रही हैं और 1.1% मरीज वेंटिलेटर सपॉर्ट पर हैं।

उन्‍होंने कहा कि देश में 216 जिले ऐसे हैं जिनमें कोई मामला सामने नहीं आया है, 42 ऐसे जिले हैं जिनमें पिछले 28 दिन से कोई मामला नहीं मिला है, 29 ऐसे जिले हैं जिनमें पिछले 21 दिन से कोई मामला नहीं मिला है। 36 ऐसे जिले हैं जिनमें पिछले 14 दिन से कोई मामला नहीं मिला है और 46 ऐसे जिले हैं जिनमें पिछले 7 दिन से कोई मामला नहीं मिला है।

लव अग्रवाल ने कहा कि रेलवे ने 5231 कोचों को कोविड केयर सेंटर के रूप में बदला है। उन्हें 215 चिन्हित स्टेशनों पर रखा जाएगा तथा इनका उपयोग माइल्‍ड और वेरी माइल्‍ड केस के उपचार के लिए किया जाएगा।

प्लाज्मा थेरेपी के बारे में लव अग्रवाल ने कहा कि आइसीएमआर के प्रॉजेक्ट PLACID को नेशनल एथिक्स कमिटी से मंजूरी मिल गई है। इस प्रॉजेक्ट के तहत प्लाज्मा थेरपी पर अध्‍यनन के लिए 21 अस्पतालों में क्लीनिकल ट्रायल होंगे। इनमें महाराष्ट्र से 5, गुजरात से 4, राजस्थान, तमिलनाडु, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश से 2-2 अस्पताल हैं जबकि पंजाब, कर्नाटक, तेलंगाना और चंडीगढ़ से 1-1 अस्पताल हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.